ख़याल

बात तो अब बहुत पुरानी है इक खोए हुए वक्त की रवानी है बहता था वो शख़्स हर उस हवा की साथ पहुँचाती जो भी उसकी फ़रियाद दूआओं के साथ के बस परिन्दों-से ख़याल मिलें ख़ाली आसमानों में उड़ते उड़ते वरना रख़ा ही क्या है ज़मीन की मोहब्बतों के साथ।

I am a Boy

In all the cities in modern times, havebirths and death rates inclined.I was born in this ridiculous time,as for being special - I was just fine. I was born in the eveningof a crisp winter day.With some folks looking down, smiling,while I cried and bawled away. I was told by everyone since then - That… Continue reading I am a Boy

अहिल्या

इस धरा की बात है खासखुद भगवान उतरे यहां सबके साथ।जब कभी अंधकार घिर आता है,मानव नीचे गिरता जाता है,भूमि से हरि को ही पुकारता है,अधर्म से मुक्ति को अकुलाता है।त्रेता में जब यह नाद हुआ,पाप से सत्कर्म जब बर्बाद हुआभीक्षण आंधी उड़ती आती थी,सात्विकता नष्ट कर ले जाती थी।ऋषियों का जीना दूभर हुआ जाता… Continue reading अहिल्या

Immortal Talks – A Book Review

“Are you aware that you are not a body? You have a body.” chorused the elder Mahtangs. Introduction: GENRE: Spirituality AUTHOR: Shunya PAGES:160 YEAR OF PUBLISH: 2017 Mahtangs (better known as Mathangs) are the tribal people residing in the forests of Mount Piduru in Sri Lanka. This tribe, similar to the sentinelese, choose to be cut off from… Continue reading Immortal Talks – A Book Review

The Mango Tree

There I was, sitting under the Mango tree planted in the front yard of my home. My track pant was smudged with earth along with my T-shirt as if I had been rolling around in the mud but I couldn’t care less. I used to live in one of those big government quarters provided by… Continue reading The Mango Tree

पाप की परिभाषा

आज के कलियुग में जहाँपाप-व्यभिचार सदा-सद पलता हैइस शहर-उस शहर, हर नगर, हर देश सेहंसते-मुस्कराते, हाथ हिलाते, सिर उठा निकलता है।राह चलते हुए राहगीरों को वह पकड़ता हैहर किसी के मन को वह अंततः जकड़ता हैऔर गलत राह पर ले जा कर वह अकड़ता है(जो मन मे एक बार पाप को बसा लेता है तो… Continue reading पाप की परिभाषा

सब चुप क्यों हैं?

(कल्पना करिए आप 12-15 वर्ष पहले के भारत में हैं। जैसे जैसे मैं समय में आगे बढूंगा आप समझते जाएंगे) रोज़ाना चलते जीवन के यापन में, सब चुप क्यों हैं? अंतर्द्वंद के स्थापन से भी, सब चुप क्यों हैं?   सर उठा कर देखते हैं जब लोग, पता लगता है कि रास्ते तो अब खाली… Continue reading सब चुप क्यों हैं?

What is and how to get out of the Social Media trap – My Facebook Theory of 3 strikes and the subtle art of not giving a f**k

(Have you ever felt a sudden urge to open social media and try to make a new friend? Or have you ever felt a sudden pang of loneliness even though you have people around you?) Hi all, So what I am about to tell you is my 'subtle art of not giving a fuck' using… Continue reading What is and how to get out of the Social Media trap – My Facebook Theory of 3 strikes and the subtle art of not giving a f**k