Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

हिंदुत्व कोई सामान्य शब्द नहीं है। यह एक परंपरा है। एक इतिहास है। यह इतिहास केवल धार्मिक अथवा आध्यात्मिक इतिहास नहीं है। अनेक बार ‘हिंदुत्व’ शब्द को उसी के समान किसी अन्य शब्द के समतुल्य मानकर बड़ी भूल की जाती है। वैसा यह इतिहास नहीं है। वह एक सर्वसंग्रही इतिहास है। Introduction:GENRE: History/Essay/Non-fictionAUTHOR: V.D. SavarkarPAGES:… Continue reading Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

रहने दो

'गर दिल बेकरार होतो बेकरार ही रहने दो ज़िंदगी पर सवाल होतो जवाबों को रहने दो क्या फर्क है बरबादी और कामयाबी में?ज़िंदगी एक जहाज है, पड़ावों को रहने दो मुश्किल है गिर के उठना मगरउठकर उन सहारों को पास रहने दो काम आयेगी ये किस्मत की मार भी क्याजीते–जीते इस उलझन को रहने दो… Continue reading रहने दो

The Matrix Resurrections – A Movie Review

★ Director: Lana WachowskiWritten By: Lana Wachowski, David Mitchell & Aleksandar HemoCast: Keanu Reaves, Carrie Ann Moss, Neil Patrick Harris & some kids no one cares about. Plot: Neo and Trinity are stuck in the matrix again leading separate lives. Neo - a renowned game designer who designed the game upon his own life (The… Continue reading The Matrix Resurrections – A Movie Review

ज़माने

जिंदगी नही मिली पर जिंदा हूं मैं आसमान का टूटा हुआ परिंदा हूं मैं लोग पीते रहे खुशनुमा महफिलों में महफिलों से भी तो शर्मिंदा हूं मैं। इस कदर पत्ते शाखों से टूट जाते थे जैसे सिर्फ फूलों की खुशबुओं का इंतजार हो कफन भी ना भीग पाए अश्कों से जहां ऐसे बेदर्द ज़माने का… Continue reading ज़माने

The Hitchhiker’s Guide to the Galaxy – A Book Review

It is an important and popular fact that things are not always what they seem. For instance, on the planet Earth, man had always assumed that he was more intelligent than dolphins because he had achieved so much - the wheel, New York, wars and so on - whilst all the dolphins had ever done… Continue reading The Hitchhiker’s Guide to the Galaxy – A Book Review

ख़याल

बात तो अब बहुत पुरानी है इक खोए हुए वक्त की रवानी है बहता था वो शख़्स हर उस हवा की साथ पहुँचाती जो भी उसकी फ़रियाद दूआओं के साथ के बस परिन्दों-से ख़याल मिलें ख़ाली आसमानों में उड़ते उड़ते वरना रख़ा ही क्या है ज़मीन की मोहब्बतों के साथ।

I am a Boy

In all the cities in modern times, havebirths and death rates inclined.I was born in this ridiculous time,as for being special - I was just fine. I was born in the eveningof a crisp winter day.With some folks looking down, smiling,while I cried and bawled away. I was told by everyone since then - That… Continue reading I am a Boy

How to Win Friends and Influence People by Dale Carnegie – A Book Review

"There's far more information in a Smile than a frown. That's why encouragement is a much more effective teaching device than punishment." Introduction:GENRE: FictionAUTHOR: Dale CarnegiePAGES: 278YEAR OF PUBLISH: 1936 Dale Carnegie is an American writer, lecturer, and the developer of famous courses in self-improvement, salesmanship, corporate training, public speaking, and interpersonal skills. Dale Carnegie… Continue reading How to Win Friends and Influence People by Dale Carnegie – A Book Review

अभिमन्यु

वीरता के जो होते मिसाल हैं,स्वार्थ, लोभ दुर्गुणों से अधिक विशाल हैं,दुर्घटनाओं में न वे मुरझाते हैं,कठिनाइयों को हंस कर गले लगाते हैं। वीरता भी कई प्रकार की होती है,जैसे सागर में असंख्य मोती हैं,वे संसार भर में पूजे जाते हैं,समाज के आदर्श कहलाए जाते हैं। एक उदाहरण लोकप्रिय वह सही,द्वापर की वह कथा कही-सुनी।साहस… Continue reading अभिमन्यु

A Thing called Hope

Those times of chaos, when, your mind's berated.That wilderness grows, overpowering,You venture about, lost, misdirected,Deeper in the woods;Deeper! Steeper! But beware, the deeper you go,more the light fadesand the gloom transcends,from that foreboding moderate,to the despondent melancholy.The fire foes out,the ashes remain, smouldering. But fear not, O' brave heart,the ashes will smolder,Forget, and on.Cease them,… Continue reading A Thing called Hope