Lashing Out

It is said that more the intelligence of an individual, more is the loneliness experienced. This is because they can more clearly see the reality of this world. This poetry is written from the perspective of such a person who is frustrated and lashing out to the world. Hope you enjoy it!

Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

हिंदुत्व कोई सामान्य शब्द नहीं है। यह एक परंपरा है। एक इतिहास है। यह इतिहास केवल धार्मिक अथवा आध्यात्मिक इतिहास नहीं है। अनेक बार ‘हिंदुत्व’ शब्द को उसी के समान किसी अन्य शब्द के समतुल्य मानकर बड़ी भूल की जाती है। वैसा यह इतिहास नहीं है। वह एक सर्वसंग्रही इतिहास है। Introduction:GENRE: History/Essay/Non-fictionAUTHOR: V.D. SavarkarPAGES:… Continue reading Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

रहने दो

'गर दिल बेकरार होतो बेकरार ही रहने दो ज़िंदगी पर सवाल होतो जवाबों को रहने दो क्या फर्क है बरबादी और कामयाबी में?ज़िंदगी एक जहाज है, पड़ावों को रहने दो मुश्किल है गिर के उठना मगरउठकर उन सहारों को पास रहने दो काम आयेगी ये किस्मत की मार भी क्याजीते–जीते इस उलझन को रहने दो… Continue reading रहने दो

वक्त

गुजरते देखा है जिंदगी को इतना करीब सेवो ना आया जब मिलने का वक्त आया मोहलत मांग लेते हम उससे मगरजिंदगी में तनहाई निभाने का वक्त बेवक्त आया क्या खूब कहा था उसने वफ़ा के लिएउसके झूठ पर जाम पीने का मजा आया गजब का तौबा किया था उसने जबहमारे नाम के आगे उसका नाम… Continue reading वक्त

ज़माने

जिंदगी नही मिली पर जिंदा हूं मैं आसमान का टूटा हुआ परिंदा हूं मैं लोग पीते रहे खुशनुमा महफिलों में महफिलों से भी तो शर्मिंदा हूं मैं। इस कदर पत्ते शाखों से टूट जाते थे जैसे सिर्फ फूलों की खुशबुओं का इंतजार हो कफन भी ना भीग पाए अश्कों से जहां ऐसे बेदर्द ज़माने का… Continue reading ज़माने

The Hitchhiker’s Guide to the Galaxy – A Book Review

It is an important and popular fact that things are not always what they seem. For instance, on the planet Earth, man had always assumed that he was more intelligent than dolphins because he had achieved so much - the wheel, New York, wars and so on - whilst all the dolphins had ever done… Continue reading The Hitchhiker’s Guide to the Galaxy – A Book Review

ख़याल

बात तो अब बहुत पुरानी है इक खोए हुए वक्त की रवानी है बहता था वो शख़्स हर उस हवा की साथ पहुँचाती जो भी उसकी फ़रियाद दूआओं के साथ के बस परिन्दों-से ख़याल मिलें ख़ाली आसमानों में उड़ते उड़ते वरना रख़ा ही क्या है ज़मीन की मोहब्बतों के साथ।

The day I miss you

Wrote this years ago. Those were the days when passions ran very high and I was still not exposed to the nefarious ways of the world. When the world and the people in it had still not corrupted my mind. When my likings were pursued by me with pure passion. Can't believe I found this!

I am a Boy

In all the cities in modern times, havebirths and death rates inclined.I was born in this ridiculous time,as for being special - I was just fine. I was born in the eveningof a crisp winter day.With some folks looking down, smiling,while I cried and bawled away. I was told by everyone since then - That… Continue reading I am a Boy

How to watch Horror Movies?

(Or How to not be afraid of watching Horror Movies?) Just 3 points to remember. The Horror genre is one of the most well-known genre that people like to watch. The prospect of watching something so bizarre, eerie and macabre that its terrifying and gets the adrenaline pumping through the body is quite popular, and… Continue reading How to watch Horror Movies?