Blog

Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

हिंदुत्व कोई सामान्य शब्द नहीं है। यह एक परंपरा है। एक इतिहास है। यह इतिहास केवल धार्मिक अथवा आध्यात्मिक इतिहास नहीं है। अनेक बार ‘हिंदुत्व’ शब्द को उसी के समान किसी अन्य शब्द के समतुल्य मानकर बड़ी भूल की जाती है। वैसा यह इतिहास नहीं है। वह एक सर्वसंग्रही इतिहास है। Introduction:GENRE: History/Essay/Non-fictionAUTHOR: V.D. SavarkarPAGES:… Continue reading Hindutva by Vinayak Damodar Savarkar – A Book Review

रहने दो

‘गर दिल बेकरार होतो बेकरार ही रहने दो ज़िंदगी पर सवाल होतो जवाबों को रहने दो क्या फर्क है बरबादी और कामयाबी में?ज़िंदगी एक जहाज है, पड़ावों को रहने दो मुश्किल है गिर के उठना मगरउठकर उन सहारों को पास रहने दो काम आयेगी ये किस्मत की मार भी क्याजीते–जीते इस उलझन को रहने दो… Continue reading रहने दो

Book Review: Meditations; Marcus Aurelius

 ⭐⭐⭐⭐⭐ GENRE:  Philosophy, Classics, Self-help AUTHOR Marcus Aurelius PAGES  254 YEAR OF PUBLISH 1944 ABOUT THE AUTHOR Marcus Aurelius ruled as Roman sovereign from 161 to 180 CE and is most popular as the remainder of the Five Good Emperors of Rome (following Nerva, Trajan, Hadrian, and Antoninus Pius) and as the creator of the philosophical work Meditations. Marcus… Continue reading Book Review: Meditations; Marcus Aurelius

वक्त

गुजरते देखा है जिंदगी को इतना करीब सेवो ना आया जब मिलने का वक्त आया मोहलत मांग लेते हम उससे मगरजिंदगी में तनहाई निभाने का वक्त बेवक्त आया क्या खूब कहा था उसने वफ़ा के लिएउसके झूठ पर जाम पीने का मजा आया गजब का तौबा किया था उसने जबहमारे नाम के आगे उसका नाम… Continue reading वक्त

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

Literature Geek
About Me

Hi, I’m Shubhanshu. Currently a Consultant in a MNC in Pune, India. Completed my Bachelors in Engineering and MBA. I spend my time when I’m not working – reading books, creating poetry, reviewing my favourite books and playing video games. This blog is for my love of Literature, my impulse for being creative and sharing my favourites with you!

Subscribe to My Blog

Get new content delivered directly to your inbox.