Lashing Out

It is said that more the intelligence of an individual, more is the loneliness experienced. This is because they can more clearly see the reality of this world. This poetry is written from the perspective of such a person who is frustrated and lashing out to the world. Hope you enjoy it!

रहने दो,

'गर दिल बेकरार होतो बेकरार ही रहने दो ज़िंदगी पर सवाल होतो जवाबों को रहने दो क्या फर्क है बरबादी और कामयाबी में?ज़िंदगी एक जहाज है, पड़ावों को रहने दो मुश्किल है गिर के उठना मगरउठकर उन सहारों को पास रहने दो काम आयेगी ये किस्मत की मार भी क्याजीते–जीते इस उलझन को रहने दो… Continue reading रहने दो,

Book Review: Meditations; Marcus Aurelius

 ⭐⭐⭐⭐⭐ GENRE:  Philosophy, Classics, Self-help AUTHOR Marcus Aurelius PAGES  254 YEAR OF PUBLISH 1944 ABOUT THE AUTHOR Marcus Aurelius ruled as Roman sovereign from 161 to 180 CE and is most popular as the remainder of the Five Good Emperors of Rome (following Nerva, Trajan, Hadrian, and Antoninus Pius) and as the creator of the philosophical work Meditations. Marcus… Continue reading Book Review: Meditations; Marcus Aurelius

वक्त

गुजरते देखा है जिंदगी को इतना करीब सेवो ना आया जब मिलने का वक्त आया मोहलत मांग लेते हम उससे मगरजिंदगी में तनहाई निभाने का वक्त बेवक्त आया क्या खूब कहा था उसने वफ़ा के लिएउसके झूठ पर जाम पीने का मजा आया गजब का तौबा किया था उसने जबहमारे नाम के आगे उसका नाम… Continue reading वक्त

ज़माने

जिंदगी नही मिली पर जिंदा हूं मैं आसमान का टूटा हुआ परिंदा हूं मैं लोग पीते रहे खुशनुमा महफिलों में महफिलों से भी तो शर्मिंदा हूं मैं। इस कदर पत्ते शाखों से टूट जाते थे जैसे सिर्फ फूलों की खुशबुओं का इंतजार हो कफन भी ना भीग पाए अश्कों से जहां ऐसे बेदर्द ज़माने का… Continue reading ज़माने

ख़याल

बात तो अब बहुत पुरानी है इक खोए हुए वक्त की रवानी है बहता था वो शख़्स हर उस हवा की साथ पहुँचाती जो भी उसकी फ़रियाद दूआओं के साथ के बस परिन्दों-से ख़याल मिलें ख़ाली आसमानों में उड़ते उड़ते वरना रख़ा ही क्या है ज़मीन की मोहब्बतों के साथ।

The day I miss you

Wrote this years ago. Those were the days when passions ran very high and I was still not exposed to the nefarious ways of the world. When the world and the people in it had still not corrupted my mind. When my likings were pursued by me with pure passion. Can't believe I found this!

I am a Boy

In all the cities in modern times, havebirths and death rates inclined.I was born in this ridiculous time,as for being special - I was just fine. I was born in the eveningof a crisp winter day.With some folks looking down, smiling,while I cried and bawled away. I was told by everyone since then - That… Continue reading I am a Boy

अभिमन्यु

वीरता के जो होते मिसाल हैं,स्वार्थ, लोभ दुर्गुणों से अधिक विशाल हैं,दुर्घटनाओं में न वे मुरझाते हैं,कठिनाइयों को हंस कर गले लगाते हैं। वीरता भी कई प्रकार की होती है,जैसे सागर में असंख्य मोती हैं,वे संसार भर में पूजे जाते हैं,समाज के आदर्श कहलाए जाते हैं। एक उदाहरण लोकप्रिय वह सही,द्वापर की वह कथा कही-सुनी।साहस… Continue reading अभिमन्यु

A Thing called Hope

Those times of chaos, when, your mind's berated.That wilderness grows, overpowering,You venture about, lost, misdirected,Deeper in the woods;Deeper! Steeper! But beware, the deeper you go,more the light fadesand the gloom transcends,from that foreboding moderate,to the despondent melancholy.The fire foes out,the ashes remain, smouldering. But fear not, O' brave heart,the ashes will smolder,Forget, and on.Cease them,… Continue reading A Thing called Hope